Monday, September 14, 2009

कुछ करना है अभी

कुछ करना है अभी ।
कुछ पाना है अभी ।
कुछ जीत के दिखाना है अभी ।

कठिनाईया ज़िन्दगी मैं दिखती है सभी ,
ऊंचैयो को पार कर जाना है अभी ।
सिर्फ़ मेहनत करने से ताज सर नही लगता ,
दिल को मायूसी से बचाना है अभी ।
कुछ जीत के दिखाना है अभी ।

ज़िन्दगी के जूनून को रास्ता दिखाना है अभी ।
दिल की प्यास को बुझाना है अभी ।

कुछ करना है अभी।
कुछ पाना है अभी।
कुछ जीत के दिखाना है अभी ।

- अमित पाटिल

5 comments:

Raviratlami said...

कुछ जीत के दिखाना है अभी?

कुछ नहीं, सब कुछ जीत के दिखाना है अभी!
बढ़िया.

Kiran said...

Badiya hai..

Vandana said...

very nice...din't know you've a poet inside you :)

Digithought said...

thanks...dhanyavad

Balu said...

main shayyar tho nahin.. magar ee haseen..