Friday, August 24, 2012

Choti choti khushiyan

छोटी छोटी खुशियाँ, उन्हें धुंडने चला मैं 
शायद कही गुम हो गयी, छोटी सी जो है 

कभी मुस्कान दिल की यूँ ही ले आती है
बिना सोचे बिना समझे हमको हसती है 

ना past का भूत ना future की चिंता
इनके छोटे से लम्हों मैं हमें मस्त कर जाती है 

कभी मीठे से चुटकुले, कभी छेड़खानी यारो मैं 
कभी icecream की treat , कभी टॉफी so sweet 

बिन सोचे बिन समझे टेंशन दूर कर जाती है
छोटी छोटी खुशियाँ आज कल बड़ी याद आती है 

1 comment:

sanmitra said...

awesome poem :)